पाखी ने भवानी को इस तरह से पट्टी पढ़ाई

कि अब उसे गलत भी सही नजर आ

रहा है। भवानी ने फैसला ले लिया है कि

पाखी ही सरोगेट मदर बनेगी। विराट भी

कुछ नहीं बोल पाया क्योंकि डॉक्टर अपनी

ओर से सारा प्रोसेस शुरू कर चुके हैं। यहीं

से सई और विराट के बीच गलतफहमियां

पैदा होने लगी हैं। सई जब कभी भी विराट

पर आंख मूंदकर भरोसा करने की कोशिश

करती है तो पाखी अपना ड्रामा शुरू ही कर देती है