अनुज और अनुपमा के झगड़े को देखने के

बाद बरखा अपनी देवरानी के पास जाती है

और उससे बात करते हुए कहती है

कि किसी भी पति को उसकी पत्नी की

जिंदगी में एक्स का होना पसंद नहीं होता। इस

बात का जवाब देते हुए अनुपमा कहती है कि 

सारे झगड़े नमक की तरह होते हैं, लेकिन मैं

ना तो किसी झगड़े में ज्यादा नमक डालती हूं

और ना ही किसी को डालने देती हूं। अनुपमा की

ये सारी बातें सुनते ही बरखा का सारा मूड खराब हो जाता है।