“कोरोना वायरस से बचने के लिए लोगों को पैसे दे सरकार, किसानों का कर्ज भी हो माफ़”

सेंट्रल डेस्क : कोरोना वायरस ने देश का बुरा हाल कर दिया है। कई लोगों के पास खाने के लिए पैसे नहीं है। किसानों पर कर्ज का बोझ है लेकिन अपनी फसल की अच्छी कीमत उन्हें नहीं मिल रही है। कोरोना वायरस से देश की अर्थव्यस्था हाल पर राहुल गाँधी कई एक्सपर्ट से चर्चा कर रहे हैं। इसी कड़ी में उन्होंने नोबेल पुरुस्कार विजेता अभिजीत बैनर्जी से बात की।

बनर्जी ने कहा कि कोरोना वायरस से होने वाले नुकसान से बचने के लिए सरकार को गरीबों की आर्थिक मदद करनी चाहिए। यह बात उन्होंने राहुल गाँधी के सवाल के जवाब में दिया।

कोरोना वायरस से देश की इकॉनमी को कैसे बचाएँ

File Photo

राहुल गाँधी ने अभिजीत के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये चर्चा कर रहे थे। एक सवाल के जवाब में बोलते हुए अभिजीत ने कहा कि देश की अर्थव्यस्था अभी बुरे दौर में हैं। इसे बचाने के लिए ये जरुरी है कि देश के एक बड़े तबके को कैश की मदद की जाये। साथ ही कर्जों से भी राहत दी जानी चाहिए। जिससे की बाजार में पैसा आएगा और वस्तुओं की मांग बढ़ेगी। अमेरिका, कनाडा जैसे देश अपने यहाँ बड़े रहत पैकेज की घोषणा पहले ही कर चुके हैं। भारत को भी ऐसा ही कुछ करना चाहिए।

क्या “न्याय” के तहत पैसे दिया जा सकते हैं

Advertisement

राहुल गाँधी ने सवाल किया कि देश के गरीबों को “न्याय” के तहत पैसे दिए जा सकते हैं?। जवाब में नोबेल पुरुष्कार विजेता अभिजीत बोले बिलकुल। अगर निचले तबके के लोग जिनके पास अभी आर्थिक तंगी है, उन्हें पैसे दिया कुछ गलत नहीं है। साथ ही जिनके पास राशन कार्ड नहीं हैं, उन्हें अस्थाई तौर तीन महीने के लिए राशन मिल सके। बता दें कि 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान, राहुल गाँधी ने “न्याय” के तहत देश के 5 करोड़ गरीब परिवारों को सालाना 72 हजार देने का वादा किया था।

JIO वालों के लिए खुशखबरी, अब रिचार्ज करने पर मिलेगा डबल इंटरनेट

खबर के बारे में आपकी क्या राय है, हमें कमेंट बॉक्स में बताइये। साथ ही खबरों के लिए बने रहिये Khabri के साथ।

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। Youtube पर हमें सब्सक्राइब करें