300 से 400 KM दूर STET Exam Center, छात्र पूछ रहे कैसे जाएं

सेंट्रल डेस्क : स्टेट टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट यानी STET Exam 2019 के दोबारा परीक्षा की सारी तैयारियां आखिरी चरण में है। गुरुवार 3 सितम्बर को STET Exam ADMIT CARD जारी हो गया, छात्रों ने डाउनलोड भी कर लिया है, लेकिन एडमिट कार्ड में जो लिखा है वो देख छात्रों के होश उड़ गए हैं।

आप पूछेंगे ऐसा क्या था एडमिट कार्ड में, हम कहेंगे उनका छात्रों के गृह जिले से दूर होना। छात्रों को STET एग्जाम देने के लिए करीब 300 से 400 किलोमीटर का सफर तय करना है, कमोबेश हर छात्र का यही हाल है। अब छात्रों का कहना है कि इतने शार्ट नोटिस पर एग्जाम लेना और एग्जाम सेन्टर का इतना दूर होना हमारे लिए बड़ी मुश्किल है। कोरोना के इस भयावह समय में हम इतने दूर कैसे एग्जाम देने जाएं कुछ समझ नही आ रहा है।

कहीं कोरोना में STET Exam न छुट जाए

बिहार में कोरोना हर रोज नए रिकॉर्ड बना रहा है, वहीं छात्रों के सामने ट्रेन और बसों में भरी भीड़ में जाने के अलावा और कोई चारा नहीं है. ऐसे में वह दुविधा में हैं कि स्वास्थ्य चुने या भविष्य. महिला परीक्षार्थियों का एग्जाम सेंटर उनके जिले करीब 350 से 400 KM दूर दूसरे जिलों में भेज दिया गया है। यही हाल पुरुष परीक्षार्थियों का भी है. पटना और आसपास के जिलों से परीक्षार्थियों को पूर्णिया, भागलपुर, बांका, मुजफ्फरपुर, छपरा, गोपालगंज, बिहारशरीफ व नवादा भेजा गया है.

जिस के लिए मोदी की हो रही है तारीफ, कभी उसी के लिए लालू पर उठे थे सवाल

वहीँ इसके उल्ट मधेपुरा,  सुपौल, बांका, नालंदा, मुजफ्फरपुर के परीक्षार्थियों का एग्जाम पटना में दिया गया है। इस सरकारी खेल में दिव्यांग भी नहीं बचे. औरंगाबाद के दिव्यांग अभ्यर्थी का परीक्षा केंद्र बिहारशरीफ दिया गया है. अब डर ये है कि आने जाने के साधन सिमित होने और कोरोना के कारण कहीं एग्जाम न छुट जाये.

आपकी खबर पर क्या राय है हमे जरुर कमाेंंट बॉक्स में जरुर बताएं. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। Youtube पर हमें सब्सक्राइब करें. साथ ही खबर को शेयर जरुर करें और बने रहें The Khabri Live के साथ.

Advertisement